COWIN Registration Fake Application; Madhya Pradesh Cyber ​​Crime Alert After Stolen Banking Information | कोविड-19 वैक्सीन रजिस्ट्रेशन के नाम पर धोखाधड़ी; पर्सनल फोटो से लेकर बैंकिंग के पासवर्ड और ई-मेल तक चुरा रहे, नाम दिया एसएमएस वोर्म


  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • COWIN Registration Fake Application; Madhya Pradesh Cyber ​​Crime Alert After Stolen Banking Information

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भोपाल2 मिनट पहलेलेखक: अनूप दुबे

  • कॉपी लिंक
अब सायबर ठग वैक्सीन के रजिस्ट्रेशन के नाम पर मोबाइल फोन का डाटा चोरी कर रहे हैं। - प्रतीकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar

अब सायबर ठग वैक्सीन के रजिस्ट्रेशन के नाम पर मोबाइल फोन का डाटा चोरी कर रहे हैं। – प्रतीकात्मक फोटो

  • मेलवेयर के जरिए मोबाइल फोन की जानकारी जैसे फोटो, फोन नंबर और निजी जानकारी हासिल करते हैं
  • शिकायत पुलिस थाने में, www.cybercrime.gov.in या टॉल फ्री नंबर 155260 पर करें

कोरोना वायरस से बचने के लिए 18 से लेकर 44 साल की उम्र के लोगों के लिए ऑन लाइन रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य है। इसी का फायदा अब सायबर फ्रॉड उठा रहे हैं। लोगों के मोबाइल फोन से जानकारी हासिल करने के लिए कोविड-19 नाम से कई तरह के एप्लीकेशन तैयार किए हैं। यह लोगों को इसकी लिंक भेजकर रजिस्ट्रेशन करने को कहते हैं। अनजाने में लोग एप्लीकेशन के माध्यम से रजिस्ट्रेशन कर देते हैं।

इससे उनके मोबाइल फोन की पूरी जानकारी आरोपियों के पास चली जाती है। इसमें मोबाइल फोन के फोटो से लेकर फोन नंबर और बैंक तक की जानकारी होती है। राज्य सायबर सेल में इस तरह की तकरीबन 3 से अधिक शिकायतें हर रोज पहुंच रही हैं। अब राज्य सायबर पुलिस ने इसको लेकर अलर्ट जारी किया है।

अतिरिक्‍त पुलिस महानिदेशक राज्‍य सायबर योगेश चौधरी ने बताया कि कोरोना महामारी का फायदा उठाते हुए सायबर अपराधी एक फर्जी मोबाइल एप्लीकेशन बनाकर उसकी लिंक मैसेज के माध्यम से भेज कर Vaccine Registration के लिए उसे डाउनलोड करने के लिए कहते हैं। उसके बाद एप्लीकेशन के माध्यम से मेलवेयर मोबाइल में आ जाते हैं। यह मोबाइल फोन की जानकारी चुरा लेते हैं। इस तरह के लिंक से बचना चाहिए।

कोई भी परमीशन अलाउ न करें

सायबर अपराधियों द्वारा एक तरह की फर्जी मोबाइल एप्लीकेशन तैयार कर मैसेज के माध्यम से कोविड वेक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन की एप्लीकेशन दिखाते हुए उक्त एप इंस्टाल करने के लिए लुभाते हैं। लिंक पर क्लिक करके उस एप्लीकेशन को इंस्टाल करने पर वह मोबाइल की बहुत सारी परमीशन लेता है। इसे अलाए करने पर वह एप्लीकेशन अपना असली काम शुरू करती है।

इसके माध्यम से वह पर्सनल फोटो, वीडियोस सारे कांटेक्ट, एसएमएस, वाट्सऐप की चेट, मोबाइल में सेव बैंकिंग के पासवर्ड हमारे सारे ईमेल आदि सायबर अपराधियों तक पहुंचा देती है। इसके अलावा हमारी जानकारी के बगैर यह एप हमारे सभी कांटेक्ट को मैसेज भेज सकता है। यह एक तरह की फिशिंग तकनीक है, जिसे “एसएमएस वोर्म” नाम दिया गया है।

सिर्फ आरोग्य सेतु पर ही रजिस्ट्रेशन कराएं

  • कोविड रजिस्ट्रेशन के लिए केवल Co-Win तथा आरोग्य सेतु ऐप के माध्यम से ही रजिस्ट्रेशन करें।
  • सर्च, सोशल मीडिया अथवा अन्य संचार माध्यमों से किसी भी प्रकार के आए एसएमएस से प्राप्त किसी लिंक पर क्लिक नहीं करें।
  • फर्जी कॉल, एसएमएस और ईमेल पर बिना पुष्टि करे विश्वास न करें।
  • अपनी व्यक्तिगत जानकारी जैसे, ओटीपी, पिन, आधार नंबर, बैंक एकाउंट नंबर, डेबिट/क्रेडिट कार्ड की जानकारी किसी से शेयर न करें।
  • इस तरह के एसएमएस से बचें व बिना पुष्टि किए इस तरह के मैसेज को आगे फारवर्ड व शेयर करने से भी बचें।
  • अपने मोबाइल के जरूरी अपडेट को समय समय पर इंस्टाल करते रहे जो आपके मोबाइल को इस तरह के मैलवेयर हमले से बचा कर रखते हैं
  • एंटीवायरस अपने मोबाइल में इंस्टाल करें।
  • कोई अपराध हो तो उसकी शिकायत अपने नजदीकी पुलिस थाने में या www.cybercrime.gov.in या टॉल फ्री नम्बर 155260 पर करें।

खबरें और भी हैं…



Source link